जीत लेते हैं हम मुहोब्बत से गैरों का भी दिल,

पर ये हुनर जाने क्यों अपनों पर चलता ही नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *