किसको बर्दाश्त है “साहेब” तरक़्क़ी आजकल दुसरो की….

लोग तो मय्यत की भीड़ देखकर भी जल जाते है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *