चलकर देखा है अक्सर, मैंने अपनी चाल से तेज…..

पर वक्त, और तकदीर से आगे, कभी निकल न सका….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *