Do Kadam Aur Sahi

Diye bujhe hain magar door tak ujala hain

Ye aap aye hain ya din nikalne wala hain

Nayi sahar hain naya gum naya ujala hain

Razai chod do ab din nikalne wala hain

Khayal me bhi tera aqs dekhne ke bad

Jo shaks hosh gawa de wo hosh wala hain

Jawab dene k andaz bhi nirale hain

Salam karne ka andaz bhi nirala hain

Sunahri dhoop hai sadqa tere tabassum ka

Ye chandani teri parchhai ka ujala hain

Hai tere pairo ki ahat zamin ki Gardhish

Ye asman teri angdai ka hawala hain

-Do kadam aur sahi, Page 25

-Rahat Indori

************************

दिए बुझे हैं मगर दूर तक उजाला है

ये आप आए हैं या दिन निकलने वाला है

नई सहर है नया गम नया उजाला है

रज़ाई छोड़ दो अब दिन निकलने वाला है

ख्याल में भी तेरा अक़्स देखने के बाद

जो शख्स होश गवाँ दे वो होश वाला है

जवाब देने के अंदाज़ भी निराले हैं

सलाम करने का अंदाज़ भी निराला है

सुनहरी धूप है सदक़ा तेरे तबस्सुम का

ये चाँदनी तेरी परछाई का उजाला है

है तेरे पैरो की आहट ज़मीन की गर्दिश

ये आसमान तेरी अंगड़ाई का हवाला है

दो कदम और सही, Page 25

-राहत इंदौरी

तेरे इश्क़ की खुशबू

Itr ki Qimat to usi din farsh par aa Giri thi,,

Tere Ishq ki Khushbu ne jis din mehkaya tha mujhe..

इत्र की कीमत तो उसी दिन फर्श पर आ गिरी थी,,

तेरे इश्क़ की खुशबू ने जिस दिन महकाया था मुझे।।

Dil na jaane kis dhokhe me chala gaya

Dil bhi na jaane kis dhoke me chala gaya,,

Koi accha lagte or bas accha lagte chala gaya

दिल भी ना जाने किस धोके में चला गया,,

कोई अच्छा लगते और बस अच्छा लगते चला गया।।

Meri Dastaan

Kya karoge sunke Dastan meri,,

Ruthi raaton ki khamosh awaz hun main..

क्या करोगे सुनके दास्तान मेरी,,

रूठी रातों की खामोश आवाज़ हूँ मैं।।