Aadat

Bana Ke Chod Dete Hain Apni Zaat Ka Aadi,,

Kuchh log Yun Bhi Inteqam Lete Hain..

बना कर छोड़ देते हैं अपनी ज़ात का आदि,,

कुछ लोग यूँ भी इंतेकाम लेते हैं।।

Tera Ghuroor

Aana Parast to Hum bhi Gazab ke hain,,

Bss tere Ghuroor ka Ehtram karte hain..

आना परस्त तो हम भी गज़ब के हैं,,

बस तेरे ग़ुरूर का एहतेराम करते हैं।।