तुम्ही ने सफ़र करवाया था, मुहब्बत की कश्ती पे…

अब नज़रे ना फ़ेर, मुझे डूबता हुआ भी देख….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *