“तजुरबा कहता है

खामोशियाँ ही बेहतर हैं,

अल्फाजो से लोग रूठते बहुत हैं…”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *