“न जाने क्यों हमें आँसू बहाना नहीं आता!

न जाने क्यों हाल-ऐ-दिल बताना नहीं आता!

क्यों सब दोस्त बिछड़ गए हमसे!

शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता! “

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *