दर्द-ए-दिल खुल के आज सुना दूँ सबको,
जी चाहता है कुछ ऐसा लिखूं के रुला दूँ सबको.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *