हम बसा लेंगें एक दुनिया किसी और के साथ,

तेरे आगे रोयें अब इतने भी बेगैरत नहीं हैं हम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *