Meri Dastaan

Kya karoge sunke Dastan meri,,

Ruthi raaton ki khamosh awaz hun main..

क्या करोगे सुनके दास्तान मेरी,,

रूठी रातों की खामोश आवाज़ हूँ मैं।।

Aadat

Bana Ke Chod Dete Hain Apni Zaat Ka Aadi,,

Kuchh log Yun Bhi Inteqam Lete Hain..

बना कर छोड़ देते हैं अपनी ज़ात का आदि,,

कुछ लोग यूँ भी इंतेकाम लेते हैं।।

Akela pan

Kabhi akele reh kar dekhna,,

Lafzon se zyada aansoo nikalte hai…

कभी अकेले रहकर देखना,,

लफ्ज़ों से ज़्यादा आँसू निकलते हैं।।